डिटिजल करेंसी क्या है? फायदे और नुक्सान

0
Digital Currency Kya Hai in Hindi

क्या आप जानते है, Digital Currency क्या है? अगर नहीं तो आज हम इस लेख में Digital Currency क्या होती है? इसके बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में विस्तार से जानेगे। डिजिटल करेंसी का उपयोग सबसे ज्यादा उस समय होता था, जब 8 नवम्बर 2016 को को भारत के प्रधानमन्त्री माननीय नरेंद्र मोदी जी ने नोटबंदी की थी। उस समय बहुत ज्यादा समस्यां का सामना करना पड़ा था, किसी के पास भी नई नोट नहीं थे, तो लोगो ने उस समय ज्यादातर लेन देन डिजिटल करेंसी के द्वारा ही किया था।

हालाकिं आज के समय में भारत में बहुत ज्यादा Ewallet का उपयोग किया जाता है। अगर हम कही से शोपिंग करते है, या फिर कोई भी चीज खरीदते है, और हमारे पास पैसे कैश में नहीं होते है, तो हम अपने ईवॉलेट से ऑनलाइन पेमेंट कर देते है। इसके आलावा भारत ने बैंकिंग के क्षेत्र में भी बहुत सारे बदलाब किये है, जिनमे से इंटरनेट बैंकिंग भी एक अच्छा कदम है। साथ ही रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के साथ मिलकर भारत सरकार ने डिजिटल करेंसी को लाने का फैसला लिया। तो आइये जानते है, की डिटिजल करेंसी क्या है (Digital Currency Kya Hai)

डिटिजल करेंसी क्या है | What is Digital Currency in Hindi

डिजिटल करेंसी का पूरा नाम “सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी” होता है, इसे ई-मुद्रा (E-Currency) के नाम से भी जाना जाता है। डिजिटल करेंसी को हम छू नहीं सकते है, यह सिर्फ आप अपने लैपटॉप, स्मार्टफोन और कंप्यूटर आदि में ही देख सकते है। इसके अलावा आप इसे Online Transfer भी कर सकते है। जबकि अगर हम बात करें पेपर करेंसी की तो इसे हमें बैंक में जाकर जमा करना होता है। लेकिन डिजिटल करेंसी पूरी तरह से अलग है, यह इंटरनेट के माध्यम से ही कण्ट्रोल होती है।

क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी को भारत सरकार के केंद्रीय बैंक द्वारा मान्यता भी मिल चुकी है। भारत में डिजिटल करेंसी को “डिजिटल रुपया” के नाम से भी जाना जाता है। अगर हम आसान भाषा में समझे की डिजिटल करेंसी क्या होती है, तो इसका सीधा सा मतलब है, पैसे को इलेक्टॉनिक रूप से उपयोग करना। इससे बैंकों में जाकर लम्बी लम्बी लाइन में नहीं लगना पड़ता है, बस आप अपना बैंक अकाउंट खुलवाने के बाद अपने पैसों को डिजिटल रूप से उपयोग कर सकते है।

डिजिटल करेंसी और यह क्रिप्टोकरेंसी में क्या अंतर है?

डिजिटल करेंसी और यह क्रिप्टोकरेंसी में क्या अंतर है, सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी आमतौर पर एक वर्चुअल करेंसी है, जिसे केंद्रीय बैंक द्वारा टेंडर के रूप में जारी किया जाता है। और आपको बता दें, की डिजिटल करेंसी क़ानूनी रूप से सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है। डिजिटल करेंसी उन सभी देशो द्वारा मान्यता प्राप्त होती है, जहाँ पर केंद्रीय बैंक इस करेंसी को जारी करता है। इस करेंसी का उपयोग कॉन्टैक्टलेस पेमेंट के लिए किया जाता है, उदहारण के लिए जब भी आप अपने बैंक अकाउंट से अपने किसी परिवार के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करते है। या फिर आप एटीएम से पैसे निकलते है।

अगर हम बात करें, की क्रिप्टोकरेंसी क्या है? क्रिप्टोकरेंसी के अंतर्गत ही बिटकॉइन करेंसी भी आती है, यह करेंसी फिजिकल नहीं होती है। आप इस करेंसी को छू नहीं सकते है। इस तरह की करेंसी सरकार के नियंत्रण में नहीं होती है, और ना ही किसी डिजिटल वॉलेट में राखी जाती है। आपको बता दें, की क्रिप्टोकरेंसी में समय समय पर उतर चढ़ाव होते है, रहते है, जबकि डिजिटल करेंसी में किसी भी तरह का उतार चढ़ाव नहीं होता है।

डिजिटल करेंसी किन देशों में चलती है?

आपको बता दें, की Digital Currency दुनिया के कई देशो में चलती है, जिनमे जापान, स्वीडन, और चीन शामिल है, यहाँ पर डिजिटल करेंसी का Trail शुरू कर दिया गया है। इसके अलावा अमेरिका में भी डिजिटल करेंसी लाने का विचार हो रहा है। बहामास, ट्यूनीशिया, और इक्वाडोर में डिजिटल करेंसी का उपयोग वर्तमान में किया जा रहा है।

डिजिटल करेंसी के फायदे एवं विशेषताएं (Advantages of Digital Currency)

  • डिजिटल करेंसी को सरकारी दवारा मान्यता प्राप्त होगी।
  • डिजिटल करेंसी आने के बाद लोगो को नगदी से छुटकारा मिल जाएगा।
  • डिजिटल करेंसी को देश के केंद्रीय बैंक की बैलेंस शीट में शामिल किया जाएगा।
  • इस करेंसी के बाद सरकार यह फायदा भी होगा, की जितना खर्चा सरकार का नोट छपने में लगता है, उसमे कमी आएगी।
  • इस करेंसी के बाद लोग अपने पैसे को जमा करने और निकलने की परेशानियों से भी बच जाएंगे। क्योकिं इसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक रूप से किया जाएगा।
  • डिजिटल करेंसी आने के बाद लोग अपने पैसे की सुरक्षा को लेकर अच्छा अनुभव करेंगे, क्योकिं यह नगदी से बहुत ज्यादा सुरक्षित है।

डिजिटल करेंसी से नुकसान (Disadvantages of Digital Currency)

कोई भी चीज हो चीज हो जिस तरह से उसके फायदे होते है, उसी तरह से उसके नुक्सान भी होते है। उसी तरह से डिजिटल करेंसी के फयदे और नुक्सान (Advantages and Disadvantages of Digital Currency) दोनों है। हालाकिं हमने डिजिटल करेंसी के फायदे के बारे में तो जान लिया है, तो आइये अब जानते है, डिजिटल करेंसी के नुक्सान क्या है –

  • डिजिटल करेंसी आने के बाद बैंक कर्मचारियों नुक्सान हुआ है।
  • डिजिटल करेंसी आने के बाद से बैंक में कर्मचारियों की संख्या कम कर दी गयी है।
  • ज्यादातर चीजे बैंको में इलेक्ट्रॉनिक हो चुकी है, इसलिए बैंकों में कर्मचारियों की भर्ती भी कम निकल सकती है।
  • जो लोग बैंक सेक्टर में जॉब करते है, उनको कही ना कही अपनी जॉब को लेकर असुरक्षा महसूस हो सकती है।
  • हालाकिं डिजिटल करेंसी का ऐसा कोई भी बड़ा नुक्सान नहीं है, बस बैंक क्षेत्र में जॉब करने वालो के लिए यह एक थोड़ी समस्यां का है।

Digital Currency का उपयोग कैसे करें?

भारत में आने वाली डिजिटल करेंसी अन्य क्रिप्टो करेंसी की तरह ही कार्य करेगी। लेकिन इसमें सिर्फ यह अंतर होगा, की यह करेंसी सरकार के अंतर्गत होगी। इस करेंसी का उपयोग किस तरह से करना है, इसके बारे में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा दिशा निर्देश जारी किये जानेगे। ऐसा माना जा रहा है, की इस करेंसी को Blockchain और अन्य तकनिकी की मदद से परिचय कराया जायेगा।

Note – यह लेख Digital Currency क्या है? (Digital Currency in Hindi) इसके बारे में था। जिसमे आपको डिजिटल करेंसी के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां दी गयी है। अगर आपका इस लेख से सम्बंधित कोई भी सवाल है, तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा, तो कृपया इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें, धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here