योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय | Yogi Adityanath Biography in Hindi

0
Yogi Adityanath Biography in Hindi

Yogi Adityanath Biography in Hindi | योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय | योगी आदित्यनाथ लव स्टोरी | योगी आदित्यनाथ की पत्नी का फोटो | योगी आदित्यनाथ की शादी हुई है या नहीं | योगी आदित्यनाथ कहां से विधायक हैं | योगी आदित्यनाथ की बहन | योगी आदित्यनाथ की पत्नी का क्या नाम है | योगी आदित्यनाथ की क्रिमिनल हिस्ट्री

योगी आदित्यनाथ जी एक कट्टर हिंदुत्व नेता है। यह 19 मार्च सन 2017 को पहली बार भारतीय जनता पार्टी की तरफ से उत्तर प्रदेश के 21 वें मुख्यमंत्री बने। अपने 5 वर्ष के सफल कार्यकाल के बाद फिर से 10 मार्च 2022 को योगी आदित्यनाथ जी को उत्तर प्रदेश का 22 वां मुख्यमंत्री बनाया गया। इससे पहले आदित्यनाथ जी गोरखपुर के लोकसभा सांसद थे। योगी जी ने भारत के बारहवें लोकसभा चुनाव आयोग में सन 1998 में कम उम्र के सांसद बने। तो आइये अब जानते है, योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय –

Table of Contents

योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय (Yogi Adityanath Biography in Hindi)

योगी आदित्यनाथ जीवन परिचय
वास्तविक नाम अजय सिंह बिश्त
उपनाम महंत योगी आदित्यनाथ
निक नेम योगी
पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट (वन क्षेत्रपाल )
माता का नाम सावित्री देवी (गृहणी)
व्यवसाय भारतीय राजनीतिज्ञ, धार्मिक मिशनरी
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)
जन्म 5 जून 1972
जन्मस्थान पंचुर जिला, पुरी गढ़वाल, उत्तराखंड, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिन्दू (नाथ संप्रदाय)
जाति ठाकुर
गृहनगर गोरखपुर, उत्तरप्रदेश, भारत
स्कूल पुरी प्राइमरी स्कूल, उत्तराखंड
कॉलेज गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर, उत्तराखण्ड
शैक्षणिक योग्यता गणित में स्नातक (बीएससी)
अध्यात्मिक गुरु महंत अवैद्यनाथ महाराज
शौक तैराकी, पशुओं के साथ खेलना
नेटवर्थ लगभग 72 लाख प्रति वर्ष

योगी आदित्यनाथ जीवन परिचय – प्रारंभिक जीवन, शिक्षा, परिवार, राजनीतिक जीवन

योगी आदित्यनाथ का प्रारंभिक जीवन

योगी आदित्यनाथ जी का जन्म 05 जून 1972 को को भारत के उत्तराखंड राज्य के पौढ़ी गढ़वाल जिले में स्थित यमकेश्वर तहसील के पंचूर गांव में हुआ था। यह एक गढ़वाली क्षत्रिय परिवार से है। इनका मूल नाम अजय सिंह बिष्ट है योगी जी वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरखपुर में स्तिथ प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महंत है। योगी जी के पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट है, और यह एक फॉरेस्ट रेंजर थे, और इनकी माता का नाम सावित्री देवी जो की एक गृहिणी है। योगी जी के परिवार में तीन बहने और तीन भाई है, जिसमे से एक भाई महेंद्र सिंह बिष्ट भारतीय सेना में है।

योगी आदित्यनाथ एजुकेशन क्वालिफिकेशन (शिक्षा)

योगी आदित्यनाथ की प्रारंभिक शिक्षा उत्तराखंड के पौड़ी में प्राथमिक विद्यालय में हुई। इसके बाद इन्होने अपनी आगे की शिक्षा हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से पूरी की यहाँ से इन्होने गणित और विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के बाद, आगे भी इन्होने गणित से एमएससी करने का फैसला लिया। लेकिन राम मंदरी में चल रहे आंदोलन के कारन योगी जी का मन पढाई की और से विचलित हो गया। इनकी राजनैतिक में शुरू से ही रूचि रही थी, कॉलेज के दिनों में योगी आदित्यनाथ जी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के उभरते हुए नेताओं में से एक थे। इसके बाद इन्होने ने छात्र चुनाव संघ से चुनाव लड़ने की योजना बनाई, लेकिन इन्हे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा टिकट नहीं दिया गया, जिसके बाद इन्होने ने निर्दलीय सदस्य के रूप में नामांकन भरा और यह सन् 1992 में यह चुनाव नहीं जीत पाए। इसके बाद इन्होने ने 22 वर्ष की आयु में अपना सब कुछ त्यागकर सन्यासी बनने का फैसला लिया, और यह संन्यास के लिए आश्रम चले गए।

योगी आदित्यनाथ का सन्यासी जीवन

योगी आदित्यनाथ जी के सन्यासी जीवन की शुरुआत महंत अवध्यानाथ महाराज के मिलने के बाद हुई। जिसके बाद इनका नाम अजय बिष्ट से बदलकर योगी आदित्यनाथ हो गया। योगी जी ने अपना सांस्कारिक जीवन त्यागने के बाद अपना पूरा जीवन समाज सेवा, और देश सेवा के करने का संकल्प लिया। महंत अवध्यानाथ महाराज ने योगी जो को 15 फरवरी सन 1994 को नाथ संप्रदाय की गुरु दीक्षा दी और उन्हें अपना शिष्य बनाया। 12 सितम्बर 2014 को महंत अवध्यानाथ महाराज की 93 वर्ष की आयु में मृत्यु हो गयी जिसके बाद योगी आदित्यनाथ को गोरखनाथ मंदिर का महंत और नाथ पंथ के पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार मंदिर का पीठाधीश्वर बना दिया गया।

Yogi Adityanath Family Members (परिवार)

योगी आदित्यनाथ जी के पिता एक फॉरेस्ट रेंजर थे। इनके पिता जी ने फॉरेस्ट रेंजर की नौकरी से सेवानिवृत्त होने के बाद ट्रांसपोर्ट संचालन का कार्य भी किया था। इनके पिता अप्रैल सन 2020 में AIIMS में 40 दिनों तक भर्ती रहे थे, लेकिन इनका 89 वर्ष की आयु में निधन हो गया। इनकी माता का नाम सावित्री देवी था जो की एक कुशल गृहणी थी। इसके अलावा योगी जी के परिवार में एक बड़ा भाई, दो छोटे भाई, और तीन बड़ी बहने है। योगी जी के बड़े भाई का नाम मानेंद्र है, दूसरे नंबर पर योगी आदित्य नाथ (अजय सिंह बिष्ट) है, इसके अलावा बाकि दो भाइयों का नाम शैलेन्द्र मोहन और महेंद्र है। योगी जी की बहनों के नाम पुष्पा देवी, कौशल्या देवी, शशि देवी हैं।

Yogi Adityanath Family Members
पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट
माता का नाम सावित्री देवी
भाई का नाम मानेंद्र, महेंद्र सिंह बिष्ट, शैलेन्द्र मोहन
बहन का नाम पुष्पा देवी, कौशल्या देवी, शशि देवी

योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय हिंदी में

Yogi Adityanath Political Career (राजनीतिक जीवन)

योगी आदित्यनाथ पहली बार सन 1998 में भारतीय जनता पार्टी की और से गोरखपुर के सांसद बने थे। इसके बाद यह लगातार सन 2017 तक गोरखपुर के सांसद रहे। इसके बाद सन 2016 के चुनाव में योगी आदित्यनाथ जी को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के लिए गोरखनाथ मंदिर में एक सभा हुई, जिसमे RSS के सभी प्रमुख नेता शामिल थे। इस सभा में सभी संतो ने यह फैसला लिया की जब पहली बार 1992 में राम मंदिर का ढांचा तैयार किया गया था, तो इस ढांचे को तोड़ दिया गया था। अगर सुप्रीम कोर्ट का फैसला राम मंदिर के पक्ष में आ जाता है, तो भी मायावती और मुलायम के होते हुए यह मंदिर नहीं बन पायेगा। जिसकी वजह से सभी ने योगी जी को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाने का फैसला लिया।

महंत अवध्यानाथ महाराज ने अपने बाद अपना उत्तराधिकारी योगी आदित्यनाथ को बनाया। योगी जी ने सन 1998 में भारतीय जनता पार्टी की और से चुनाव लड़ा और वह जीत गए। जिस समय योगी जी पहली बार सांसद बने थे, उस समय इनकी आयु मात्र 26 वर्ष थी। और यह उस समय बारहवीं लोकसभा के सबसे युवा सांसद थे। इसके बाद इन्होने ने लगातार भारतीय जनता पार्टी से चुनाव जीते। दूसरी बार इन्होने 1999 में और तीसरी बार 2004 में और चौथी बार 2009 में और पांचवी बार 2014 में चुनाव जीता। इसके बाद सन 2017 में BJP ने योगी जे से प्रचार कराया जिसके परिणाम स्वरुप 19 मार्च सन 2017 को BJP की बैठक में योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुनकर उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिया गया।

हिन्दू युवा वाहिनी का गठन

योगी जी ने हिन्दू युवा वाहिनी का गठन सन 2002 में किया था। यह एक निजी संगठन है, जिसका मुख्य कार्य ग्राम रक्षा दल के रूप में हिन्दू विरोधी और राष्ट्रवादी गतिविधियों को नियंत्रित करना है। इस गठन के बनने से गोरखपुर में बहुत शांति बढ़ी है। जिसकी वजह से दंगो में भी बहुत कमी आयी है। योगी जी के सभी कार्यों से गोरखपुर की जनता बहुत खुश है, जिसकी वजह से योगी जी लगातार गोरखपुर के सांसद रहे है।

योगी आदित्यनाथ की दिनचर्या

योगी जी को पशुओं से बहुत ज्यादा प्यार है, यह सबसे ज्यादा गाय से प्यार करते है। योगी जी सबसे पहले अपनी दिन की शुरुआत योग से करते है। इसके बाद वह सुबह का नाश्ता करने से पहले गायों को चारा खिलाते है। इसके अलावा योगी जी ने एक संस्था भी बनायी है, जो की सड़को पर पड़े बीमार पशुओं और जानवरो को ले जाकर उनका इलाज किया जाता है।

योगी आदित्यनाथ जी भगवा रंग के कपड़े पहने है। जो कपड़े योगी जी पहने है, वह “नाखूनी सादा कुर्ता” के नाम से लोकप्रिय है। इसके पीछे का मुख्य कारण यह है, की यह कुरता सिलने के लिए दरजी के नाखुनो का बड़ा होना अनिवार्य है। तभी यह कुरता सिला जा सकता है। इसलिए इसका नाम “नाखूनी सादा कुर्ता” है। यह सभी जानकारी योगी जी का कुर्ता सिलने वाले गोरखनाथ मंदिर के कॉम्प्लेक्स दर्जी बुद्धिराम जी ने दी है। उन्होंने यह भी बताया है, की योगी जी गोल गले के कुर्ते पहनना ही पसंद करते है।

कुछ स्रोत के द्वारा योगी जी के नाम को “अजय मोहन बिष्ट” भी बताया जाता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुछ प्रमुख फैसले

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की और से मुख्यमंत्री पद के लिए आदित्यनाथ योगी जी को चुना गया है। योगी जी शपथ गमारोह में प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी के साथ मंच पर नजर आएं। योगी जी ने समाज के सभी समुदायों और वर्गों को सुधारने और कार्य करने के लिए शपथ ली है। तो आइये जानते है, योगी जी के कुछ मुख्य फैसलों के बारे में –

  • योगी आदित्यनाथ जी ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सबसे पहले अवैध कसाईखानों को बंद करने का फैसला लिया। उन्होंने सभी शहरों की पुलिस को आदेश दिया की जल्द से जल्द एक ऐसी योजना बनाई जाएँ, जिसकी सहायता से उत्तर प्रदेश में चल रहे सभी अवैध कसाईखानों को बंद किया जा सकें।
  • योगी जी एक सन्यासी है, और वह गाय की सेवा करते है, उन्होंने उत्तर प्रदेश राज्य की पुलिस को आदेश दिया है, की अगर राज्य के किसी भी शहर में गाय की तस्करी होती है, तो उसके खिलाफ जल्द से जल्द कार्यवाही की जानी चाहिए। इस कार्य के लिए योगी जी ने “जीरो – टॉलरेंस” नीति को अपनाने के लिए कहा है।
  • योगी जी ने “एंटी रोमियो स्क्वाड” नाम की एक टीम का गठन किया है, जिसका मुख्य कार्य है, जो मनचले लड़कों को छेड़ते है, उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस सबक सिखाएगी। यह टीम सभी स्कूलों और कालेजों के बहार तैनात रहेगी। इसके अलावा यह लखनऊ के ग्यारह जिलों में तैनात है।
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने अपनी नई कैबिनेट सभा के तैयार होने के साथ साथ सभी कैबिनेट मंत्रियों के व्यक्तिगत तथा अचल और चल संपत्ति की सभी जानकारी 15 दिन के अंदर मांगी है। इस सभा में उत्तर प्रदेश के 65 कैबिनेट अधिकारी मौजूद थे।
  • योगी आदित्यनाथ जी ने मुख्यमंत्री बनने के पर एक और फैसला लिया है, उन्होंने इस फैसले के अंतर्गत सभी सरकारी दफ्तरों, स्कूल और कालेजों में कर्मचारियों को पान तम्बाकू खाने पर रोक लगा दी गयी है। क्योकिं पिछली सरकार के अनुसार उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के अनुसार सरकारी दफ्तरों में इन सभी चीजों से बहुत ज्यादा गंदगी फैलाई गयी थी।
  • योगी जी ने अपने सभी मंत्रियों को आदेश दिया है, की वह अपने सभी निजी वाहनों से लाल बत्ती हटा दे। लाल बत्ती सिर्फ सरकारी वाहनों पर ही उपयोग की जायेगी।
  • योगी जी ने मुख्यमंत्री बनने के बाद केंद्रीय पर्यटन मंत्री महेश शर्मा से आयोध्या में एक विशाल रामायण म्यूजियम बनने के लिए बात की है। रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा माना जा रहा है, की सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए आयोध्या में 25 एकड़ की जमीन भी चुन ली है, जिसमे 154 करोड़ रूपये का फंड लगेगा।
  • योगी जी के भारतीय जनता पार्टी घोषणा पत्र में राम मंदिर के निर्माण के बारे में भी लिखा है, हालाकिं 9 नवंबर 2019 को राम मंदिर का फैसला हो गया है, और अब जल्द ही आयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो जाएगा।
  • भाजपा की सरकार में बिजली के क्षेत्र में बहुत अधिक कार्य हुआ है, कई नये 1.21 लाख गांवो तक बिजली पहुंची है। और जिला मुख्यालय में 24 घंटे, तहसीलों में 20 घंटे, और गावों में 16 से 18 घंटों तक बिजली दी जा रही है।
  • उत्तर प्रदेश के पर्यटन स्थलों का सौन्दर्यीकरण, गंगा नदी की सफाई, और कई धार्मिक स्थलों का नवनिर्माण भी किया जाएगा।
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की सरकार के कार्यकाल में उत्तर प्रदेश में तीन नए इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण भी कराया जायेगा। इसके अलावा कई नये एक्सप्रेस वे, और मेट्रो के कार्य भी किये जाएंगे।

योगी आदित्यनाथ से जुड़े विवाद

वैसे तो राजनीति में छोटे मोटे विवाद चलते रहते है, क्योकिं यह एक सामान्य बात है। लेकिन हम जानेगे, योगी जी से जुड़े कुछ मुख्य विवादों के बारे में –

योगी जी पर 07 सितम्बर 2008 में एक जानलेवा हमला किया गया था। इस हमले में योगी जी को चारो और से वाहनों द्वारा घेर लिया गया था। इस हमले में बहुत से लोग लहुलुहान भी हुए थे। इस हमले के दौरान योगी जी को गिरफ्तार भी कर लिया गया था। यह हमला मोहर्रम के दौरान हुआ था। मोहर्रम में एक फायरिंग के दौरान हिन्दू युवक की मृत्युं हो गयी थी।

योगी जी के गिरफ्तार हो जाने के बाद कई समर्थको ने मुंबई – गोरखपुर एक्सप्रेस ट्रेन के कुछ डिब्बों को जला दिया था। योगी जी पर IPC की धारा 151A, 146, 147, 279, 506 के तहत जेल भेज दिया गया था। ट्रैन में जिन डिब्बों को जलाया गया था, उसका आरोप हिन्दू युवा वाहिनी संगठन पर लगाया गया था। इसके अगले दिन ही जिला अधिकारी हरी ओम और पुलिस अधिकार राजा श्रीवास्तव का ट्रांसफर हो गया था, उस समय सत्ता में मुलायम सिंह यादव जी की सरकार थी।

योगी आदित्यनाथ के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न –

योगी आदित्यनाथ का पूरा नाम क्या है?

योगी आदित्यनाथ जी का पूरा नाम अजय सिंह विष्ट और महंत योगी आदित्यनाथ है।

योगी आदित्यनाथ के पिता का क्या नाम है?

आनंद सिंह बिष्ट

योगी जी की माता का क्या नाम है?

सावित्री देवी

योगी आदित्यनाथ की शादी हुई है या नहीं?

योगी आदित्यनाथ जी की शादी नहीं हुई है।

योगी आदित्यनाथ की पत्नी का क्या नाम है?

योगी आदित्यनाथ जी की शादी नहीं हुई है, यह अविवाहित, और एक सन्यासी है।

योगी जी की बहन क्या करती है?

योगी जी की बहन अपने गांव में एक दुकान चलाती है।

सीएम योगी आदित्यनाथ का मोबाइल नंबर क्या है?

09454404444

Note – यह लेख योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी (हिंदी में) (Yogi Adityanath Biography in Hindi) से सम्बंधित है, जिसमे आपको योगी जी से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां दी गयी है। जिसमे योगी जी का घर कहाँ पर है, और इनकी प्रारंभिक शिक्षा और भी कई महत्वपूर्ण जानकारियों इस लेख में आपको बताई गयी है। अगर आपका इस लेख से सम्बंधित कोई भी सवाल है, तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा, तो कृपया इस लेख को अपने सभी दस्तो के साथ WhatsApp FaceBook और अन्य सोशल मीडिया अकाउंट पर जरूर शेयर करें, धन्यवाद। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here