Aster Flower Information in Hindi | एस्टर फूल की जानकारी

Aster Flower Information in Hindi

Aster Flower in Hindi – आज हम एक ऐसे फूल के बारे में जानेगे जो दिखने बहुत सुन्दर और आकर्षक होता है। जिसे एस्टर का फूल Aster Flower Information in Hindi कहते है। इस लेख हम एस्टर के फूल से सम्बंधित कुछ रोचक जानकारी, और एस्टर के फूल को कैसे लगाया जाता है, इसकी देखभाल कैसी की जाती है। इससे जुड़ी और भी कई अन्य जानकारियों के बारे में जानेगे। तो चलिए जानते है, एस्टर के फूल की सभी जानकारी –

एस्टर फूल की जानकारी Aster Flower in Hindi

एस्टर का फूल कई रंगो में खिलता है, जिनमे बैंगनी और लाल रंग मुख्य है। एस्टर के पौधे बारहमासी होते है, जो की Daisy परिवार से सम्बंधित होते है। इसके फूलों का आकर तारो की तरह होता है। एस्टर के पौधे को बहुत आसानी से बगीचों में उगाया जा सकता है। Aster Flower का Scientific Name – Asteraceae एस्टर के फूल को और भी कई नामो से जाना जाता है Aster Flower Name in Hindi जिनमे Aster, Michaelmas Daisies, Aster Patens, Aster Praeustus और Forest Flower मुख्य है।

एस्टर के फूल के कई प्रजातियां पायी जाती है। यह प्रजाति के अनुसार अलग अलग रंग और आकर के होते है। एस्टर का उपयोग कई कार्यो के लिए किया जाता है। सबसे ज्यादा इस फूल को शादी समारोह में मडप सजाने के लिए किया जाता है, इसके अलावा इसके पौधों को बड़े बड़े बगीचों में सजावट के रूप में उगाया जाता है। जब किसी से मिलने जाते है, तो एस्टर के गुलदश्ते को भी भेट में देते है। एस्टर के फूलों की सबसे ज्यादा खेती उत्तरी अमेरिका और दक्षिणी यूरोप में की जाती है।

Aster Flower Meaning in Hindi

Aster ग्रीक भाषा का एक प्राचीन शब्द Aster से लिए गया है। इस शब्द का अर्थ तारा होता है। यह नाम इस फूल को इसलिए दिया गया है, क्योकिं एस्टर के फूल का आकर तारे की तरह होता है। एस्टर का फूल ज्ञान, विश्वास, और प्यार का प्रतिक है। इस फूल को ग्रीक की पौराणिक कथाओ में देवताओं और देवियों के लिए उपयोग किया जाता है। तब से इसे प्यार का प्रतिक माना जाता है। एस्टर का फूल जिस समय खिलता है, तो यह तितलियों और मधुमखियों को अपनी और आकर्षित करता है। यह फूल का परागण करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

एस्टर के पौधे की जानकारी Aster Flower Plant

Aster Flower Information in Hindi

एस्टर के पौधे बारहमासी होते है। इन पोधो की ऊंचाई सामान्यतौर पर लगभग एक से चार फीट तक होती है। इसके अलावा कुछ पौधे प्रजाति के अनुसार छोटे या बड़े भी होते है। इन पौधों का फैलाव लगभग एक से तीन फीट तक होता है।

एस्टर के फूल का आकर 1 से 2 इंच तक होता है। यह फूल कई रंगो में खिलते है, जिनमे बैंगनी, लाल, गुलाबी, सफ़ेद और नीला रंग मुख्य है। इन फूलों के बीच में एक पीले रंग का केंद्र होता है। यह फूल बहुत सारी छोटी छोटी पंखुड़ियों से मिलकर बना है।

जिस तरह से सूरजमुखी का फूल और डेज़ी का फूल होता है। इस के बीच में स्तिथ केंद्र में छोटी छोटी पंखुड़ियों को डिस्क कहा जाता है, इस डिस्क के ऊपर खिलने वाले छोटे छोटे फूलों का रंग कई बार अलग भी हो जाता है।

एस्टर के पौधे की पत्तियों का रंग गहरा हरा होता है। इसकी पत्तियों फूलों की तरह लम्बी और पतली होती है, जो की आगे की और से हलकी नुकीली होती है। एस्टर के पौधे के तने सीधे होते है।

एस्टर पौधे की किस्में या प्रजातियां Aster Plant Varieties

एस्टर के पौधे की पूरी दुनिया में लगभग 600 से आशिक प्रजातियां पायी जाती है। जबकि सबसे ज्यादा पसंद किये जाने वाला फूल Purple Aster Flower और White Aster Flower होता है। बैंगनी रंग के एस्टर की कई प्रकार की प्रजातियां होती है। निचे आपको एस्टर की कुछ लोकप्रिय प्रजातियां बताई जा रही है, जिनमे बैंगनी और अन्य सभी प्रजातियां शामिल है।

  • New England Asters (Aster novae-angliae) – न्यू इंग्लैंड को एस्टेरस जीनस के सबसे खूबूसरत और आकर्षक पोधो में से माना जाता है। इस जीनस के पौधों को स्पाईमिपोट्रिचम नोवा-एंजेलिया या एस्टर नोवा-एंगलिया कहते है। यह पौधे पतझड़ के मौसम में भी बहुत आसानी से उग जाते है। ये पौधे त्तरी अमेरिका के मूल निवासी हैं।
  • New York Asters (Aster novi-belgii) – इस प्रजाति के पौधों को आमतौर पर माइकलमास डेज़ी कहा जाता है। इस जीनस के सभी प्रकार के पौधे मध्य गर्मियों के मौसम में बढ़वार करते है। इन पौधों के ऊपर बैंगनी, सफ़ेद और गुलाबी फूल होते है।
  • Wood’s Purple – इस किस्म के पौधों का केंद्र पीले रंग का होता है, और यह फूल डबल सतह में बैंगनी रंग के खिलते है।
  • Purple Cloud (Aster novae-angliae) – पर्पल क्लाउड प्रजाति न्यू इंग्लैंड के की प्रजातियों में से एक है। इस प्रजाति के पौधे बारहमासी होते है, जिन पर पीले रंग के केंद्र के साथ बैंगनी रंग के फूल खिलते है। इस प्रजाति के पौधों को पूर्ण धुप में उगाया जाता है।
  • Rosa Sieger Aster (Aster novae-angliae) – Rosa Sieger Aster न्यू इंग्लैंड की ही एक किस्म है, जो की पीले केंद्र के साथ हलके गुलाबी फूलों के साथ खिलता है। यह फूल सितम्बर से अक्टूबर के महीनो में खिलते है। इन पौधों की लम्बाई लगभग तीन से चार फीट तक होती है। और यह पौधे चौड़ाई में लगभग दो फीट तक फैलते है।
  • King George (Aster amellus) – इस प्रजाति के फूल बैंगनी रंग के होते है। इसे इटैलियन एस्टर के नाम से भी जाना जाता है। इन फूलों का आकर अंडाकार होता है।

एस्टर का पौधा बीज से कैसे उगाएं How to Grow Aster Plant

  • एस्टर के पौधे गर्मियों के दिनों में अच्छी बढ़वार करते है। इन्हे ज्यादा सर्दी वाले इलाके पसंद नहीं होते है। एस्टर प्लांट को 20 – 25 डिग्री सेल्सियस तापमान में बहुत आसानी से उगाया जा सकता है।
  • सबसे पहले आपको पौधा लगाने के लिए एक बेहतर और उपजाऊ मिटटी का मिश्रण तैयार करना चाहिए।
  • मिटटी तैयार करने के लिए आप दोमट मिटटी और इसके अंदर कॉकपिट, या गोबर का खाद मिला सकते है।
  • मिटटी को अच्छी तरह से मिलाने के बाद, इसे कुछ घंटो के लिए छोड़ देना चाहिए। जिससे की मिटटी पूरी तरह से सुख जाए।
  • इसके बाद आपको एस्टर प्लांट के कुछ बीजों को लेकर मिटटी में लगा देना चाहिए।
  • बीजों को आप गमले के आकर के अनुसार लगाएं। एक मध्य आकर के गमले में लगभग 200 से ज्यादा बीजो को उगाया जा सकता है।
  • बीजो को गमले डालने के बाद, इनके ऊपर से एक परत मिटटी की ढक दें।
  • इसके बाद गमले में पानी डाल दें। ध्यान रखे की ज्यादा पानी ना डाले इससे बीज ख़राब हो सकते है।
  • गमले को एक ऐसे स्थान पर रखे, जहाँ पर धुप बहुत हलकी आती हों।
  • आपके एस्टर के बीज लगभग एक सफ्ताह के अंदर अंकुरित होना शुरू हो जाएंगे।
  • जब पौधे थोड़ा बड़े हो जाएँ, तो इन्हे किसी बड़े गमले में लगा देना चाहिए।

How to Grow Aster Flowers Plant From Seeds in Hindi

एस्टर के पौधे की देखभाल कैसे करें

  • इस पौधे को लगाने के बाद आपको पानी का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इसमें कभी भी ज्यादा मात्रा में पानी नहीं देना चाहिये।
  • जब पौधा थोड़ा बड़ा हो जाएँ, तो इसकी प्रोनिंग करनी चाहिये। इसमें आप ज्यादा बढ़ रही शाखाओ को पौधे से हटा सकते है।
  • प्रोनिंग करने से पौधे में ज्यादा शाखाएं निकलती है, जिसकी वजह से फूल अभी ज्यादा आते है।
  • एस्टर के पोधो को हमेशा ऐसी जगह पर लगाएं जहाँ पर दिन में लगभग पांच घंटे धुप रहती हों।
  • सर्दियों के दौरान पौधे में नमी को ना रहने दें। इससे पौधे ख़राब हो जाते है।
  • यदि पौधे की पत्तियां ख़राब हो रही है, और इस पर किट पतंगे लग रहे है, तो ऐसे में आप नीम आयल के स्प्रे का उपयोग कर सकते है।

Aster प्लांट की Care कैसे करें वीडियो में देखें

Aster Flower FAQ

क्या एस्टर के पौधे हर साल उगते है?

एस्टर के फूलों को वसंत के मौसम में खिलतें है। जब इनके ऊपर बीज आते है, तो आपको जमीन पर गिरने से पहले इन बीजों को संभल कर रखना चाहिये। और अगले साल फिर से ऊगा देना चाहिए। अगर यह खुद से जमीन पर निचे गिरते है, तो ऐसी स्तिथि में यह पौधे नहीं उगते है।

क्या एस्टर के पौधे को धुप और छाया की जरुरत होती है?

एस्टर के पौधे धुप में ज्यादा अच्छी बढ़वार करते है। हालाकिं इन्हे छाया की आवश्यकता होती है। लेकिन छाया वाले स्थान में यह कम खिलते है।

एस्टर के फूल किस महीने में खिलते है?

एस्टर के फूल गर्मियों के दिनों में खिलते है, और यह प्रजाति के अनुसार कई रंगो के होते है।

क्या एस्टर का मतलब तारा होता है?

एस्टर एक प्राचीन ग्रीक शब्द है, जो ἀστήρ (astḗr) से आया है, जिसका अर्थ “तारा” होता है।

 

Note – यह पोस्ट एस्टर फूल के बारे में थी। जिसमे आपको इससे सम्बंधित सभी जानकारियां दी गयी है। आपको यह पोस्ट Aster Flower in Hindi कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं। अगर यह पोस्ट आपको अच्छी लगी तो कृपया अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें, धन्यवाद। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here